Wednesday, 8 November 2017

एक ग़ज़ल आप सबके हवाले 
-------------------------------
मैं  ख़ता  करूँ  तो  ख़ता लिखो 
मैं  वफ़ा  करूँ  तो  वफ़ा  लिखो 

मेरी  आँख   देखो  भी  ग़ौर  से 
जो  मैं   डबडबाऊँ  दुआ  लिखो 

मेरी   ज़ुल्फ़  लहराए   नागिनी 
तो  कलम  उठा  के  हवा लिखो 

कहाँ  हम हों ,तुम हो पता नहीं 
इसे  लिखने  वाले जुआ लिखो 

मैंने  ज़ख्म  सारे   दिखा   दिए 
ऐ  तबीब  अब तो  दवा  लिखो 

जहाँ लिखना 'ज़ीनत' को फूल है 
उसे  शाख़   बिलकुल हरा लिखो 
---कमला सिंह 'ज़ीनत' 

20 comments:

  1. आपकी लिखी रचना "पांच लिंकों का आनन्द" में गुरुवार ०९ नवंबर २०१७ को लिंक की गई है.................. http://halchalwith5links.blogspot.com आप सादर आमंत्रित हैं ,धन्यवाद! "एकलव्य"

    ReplyDelete
    Replies
    1. बेहद शुक्रिया आपका

      Delete
  2. बेहतरीन
    सुबह का सलाम
    सादर

    ReplyDelete
    Replies
    1. बेहद शुक्रिया आपका

      Delete
  3. लाज़वाब...बहुत सुंदर

    ReplyDelete
    Replies
    1. बेहद शुक्रिया आपका

      Delete
  4. मैंने ज़ख्म सारे दिखा दिए
    ऐ तबीब अब तो दवा लिखो।

    क्या कहने। wahhhhhh। बहुत लाज़वाब। शानदार। जानदार। दिलकश।

    ReplyDelete
    Replies
    1. बेहद शुक्रिया आपका

      Delete
  5. लाज़वाब गज़ल,वाह! बेहद दिलकश.
    बधाई.
    सादर

    ReplyDelete
    Replies
    1. बेहद शुक्रिया आपका

      Delete
  6. सुंदर लाज़वाब गज़ल. वाह!इसे सुनने में बहुत मज़ा आता. बधाई स्वीकार करें आदरणीय कमला जी.
    सादर

    ReplyDelete
    Replies
    1. काश आप मेरे सामने होती और मैं आपको सुना पाती , मुझे बहुत ख़ुशी होगी कभी सुना पाई तो ।

      Delete
  7. Replies
    1. बेहद शुक्रिया आपका

      Delete
  8. बहुत खूब लिखा है

    ReplyDelete
    Replies
    1. बेहद शुक्रिया आपका

      Delete
  9. मैंने ज़ख्म सारे दिखा दिए
    ऐ तबीब अब तो दवा लिखो....
    बहुत दिलकश शेर, खूबसूरत गजल। बधाई।

    ReplyDelete
    Replies
    1. बेहद शुक्रिया

      Delete
  10. वाह!!!
    बेहतरीन शेरों से सजी लाजवाब गजल.....

    ReplyDelete
    Replies
    1. शुक्रिया आपका

      Delete